Skip to content

श्री दुर्गासप्तशती पाठ पीडीएफ डाउनलोड

इसमें पाठ करनेकी विधि स्पष्ट, सरल और प्रामाणिक रूपमें दी गयी है। इसके मूल पाठको विशेषतः शुद्ध रखनेका प्रयास किया गया है। आजकल प्रेसोंमें छपी हुई अधिकांश पुस्तकें अशुद्ध निकलती हैं, किंतु प्रस्तुत पुस्तकको इस दोषसे बचानेकी यथासाध्य चेष्टा की गयी है। पाठकोंकी सुविधाके लिये कहीं-कहीं महत्त्वपूर्ण पाठान्तर भी दे दिये गये हैं।

शाप-राहत देने वाले विभिन्न रूपों में आते हैं। शील्ड, अर्गाला और कीलाका परिभाषाएँ भी प्रदान की गई हैं। देवयथर्वशीर्ष, सिद्ध कुंजिकास्तोत्र, मूल सप्तशलोकी दुर्गा, श्रीदुर्गद्वत्रिंशन्नम्माला, श्रीदुर्गाष्टोत्तोतरशतनमस्तोत्र, श्रीदुर्गामनसपूजा, और देव्यपराधाक्षमपनस्तोत्र, वैदिक-तांत्रिक रात्रीसूक्त और देवीसुक के अलावा

आवश्यक ट्रस्टों की अनदेखी नहीं की गई है, और नवर्ण दृष्टिकोण भी है। सप्तशती के मूल श्लोकों को उनकी संपूर्णता में समझाया गया है। कमेंट्री तीन पहेलियों में बहुत सारे रहस्यों की व्याख्या भी करती है। इन पहलुओं के परिणामस्वरूप पढ़ने और अध्ययन करने के लिए अब यह एक बहुत ही उपयोगी और शानदार किताब है। सबसे अच्छी चीज है देवी दुर्गा के चरणों में प्रेम भक्ति। सप्तशती का पाठ करते समय केवल विधि का पालन करना ही हितकर नहीं है।

PDF Name: श्री दुर्गासप्तशती पाठ पीडीएफ डाउनलोड
No. of Pages: 240
PDF Size: 1 MB
Language: Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.